21.3.11

पहले शुक्रिया... फिर शिकायत...!



        होली के पूर्व दो महत्वपूर्ण अवसर लगातार ऐसे सामने आ गये जिन्हें आपके समक्ष लाने के प्रयास में दोनों दिन एक-एक जानकारीसूचक पोस्ट तैयार हो गई । शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ उन सभी मित्रों का जिन्होंने इस अवसर पर मुझे अपनी हार्दिक बधाईयों के साथ ही शुभकामनाएँ प्रदान कीं । पहला विशेष अवसर था इस नजरिया ब्लाग का सिर्फ 110 दिनों की यात्रा में 200 फालोअर्स की संख्या पार कर देने का जिसकी सूचनार्थ पोस्ट ब्लागराग : क्या मैं खुश हो सकता हूँ ? पर निम्न ब्लागर साथियों ने अपनी दिली शुभकामनाएँ व्यक्त कीं- 
       

आप सभी शुभचिंतक साथियों को बहुत-बहुत धन्यवाद. 
और श्री सत्यम शिवम जी को इसे चर्चामंच पर स्थान देने हेतु विशेष धन्यवाद...



साथ ही मेरी ये शिकायत भी-

         सबसे पहले ई-मेल सेक्शन में...

        1.  कुछ ब्लागर बंधु अपनी नई पोस्ट की जानकारी ई-मेल से ऐसे भेजते हैं जिनमें उपर 150-200 ई-मेल ID और नीचे भी 100-150 ई-मेल ID भरे होते हैं दिन भर में 10-12 ऐसे ई-मेल मुझे रोजाना प्राप्त होते हैं, और यह सम्भव नहीं हो सकता कि आप इन पोस्ट को पढें ही, इनमें से 10-15% पाठक भी वास्तव में इनकी पोस्ट तक पहुँच पाते हों ऐसा मैं नहीं समझता । अलबत्ता जिन प्राप्तकर्ताओं को भी ये ई-मेल पहुँचते हैं उन्हें इनको लगातार डीलिट करते रहने का एक काम और बढता जाता है । तो प्लीज आप मेहरबानी करके ऐसे कोई भी थोक ई-मेल ID वाले मेल भेजकर दूसरों का काम न बढावें ।


            2.  ई-मेल से ही सम्बन्धित दूसरी शिकायत उन जानकारों से भी जो अपनी पोस्ट या अन्य कोई जानकारी ई-मेल से भेजते तो हैं, लेकिन उनका ई-मेल इतनी पेचीदगियों से भरा होता है कि आप अपना नाम, ई-मेल ID, अपना जन्म दिनांक व अन्य सम्बन्धित जानकारी बार-बार फीड करते रहो फिर भी उनकी मेल तक पहुँच पाना आसान नहीं होता, और ऐसे में जब इन्हें अपने मेल का प्रत्युत्तर नहीं मिल पाता तो इनकी नाराजी भी स्पष्ट तौर पर देखी जा सकती है । ऐसे सभी ई-मेल भेजने वाले ब्लागर साथियों से भी मेरा यह विनम्र अनुरोध है कि यदि आपका ई-मेल आसानी से खुलने वाला नहीं है तो कृपया ऐसे मेल न भेजें । उसकी बनिस्बत अपने ई-मेल आप तभी भेजें जब आप आश्वस्त हों कि बिना किसी अतिरिक्त लिखा-पढी के आपका मेल संदेश प्राप्तकर्त्ता पढ भी सकते हैं और चाहें तो अपना उत्तर भी दे सकते हैं ।
   
 और अब समस्या फेसबुक से-
          
         कुछ ब्लागर साथी अपनी पोस्ट या रचना या चित्रावली जिसे वे  अपने स्वयं की वाल पर पोस्ट करके भी अपने पाठकों को दिखा सकते हैं वे उसके लिये मेरी  वाल प्रोफाईल का प्रयोग न जाने क्यूं करते हैं ? हालांकि इससे मुझे विशेष कुछ परेशानी न है और न ही होना चाहिये, किन्तु समस्या यहाँ भी वही बनती है कि उन मित्रों की उस पोस्ट या चित्र या जो कुछ भी वे मेरे वाल से प्रसारित करते हैं उस पर समूचे फेसबुक जगत से जितनी भी प्रतिक्रियाएँ आती हैं वो सब मेरे ई-मेल खाते पर जमा होती जाती हैं और उन सभी ई-मेल को डीलिट करते रहने का एक अनावश्यक कार्य मेरे लिये निरन्तर पैदा होता रहता है । यहाँ मैं किसी का भी नाम नहीं लूंगा, लेकिन ये चाहूँगा कि वे दो-चार मित्र जो अपनी पोस्ट, रचना, चित्र आदि मेरे वाल से फेसबुक के साथियों को दिखा रहे हैं वे जब तक मेरा उससे कोई सीधा सम्बन्ध ना हो तब तक वे अपनी उस प्रस्तुति को अपने ही वाल से पोस्ट करें । निश्चय ही तब भी वो मुझ सहित सभी पाठकों तक पहुँच सकेगी और मेरे लिये अनावश्यक ई-मेल डीलिट करने का व्यर्थ कार्य नहीं उपजेगा ।    

           मैं उम्मीद करता हूँ कि जिन तीन श्रेणियों की शिकायतें मैं यहाँ आप सभीको दिखा रहा हूँ उनसे यदि आपका भी कोई जुडाव रहा हो तो आप मेरी समस्या को समझते हुए इस पर ध्यान देंगे और भविष्य में मुझे ही नहीं किसी भी अन्य ब्लागर साथियों को इस प्रकार अनावश्यक धर्मसंकट में डालकर शिकायतों का मौका न देंगे ।

                                                   पुनः आप सभी को अनेकानेक धन्यवाद सहित...


23 टिप्‍पणियां:

  1. सुझाव और शिकायत दोनो दर्ज कर ली गयी हैं ………………जल्द से जल्द एक्शन लिया जायेगा।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपको बहुत बहुत बधाई।
    होली पर्व की अशेष हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी कृतज्ञता के कायल हैं!
    बहुत-बहुत बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी शिकायतें ज़ायज़ हैं ।
    ब्लोगर्स में यूँ ही सद्भावना बनी रहे , यही कामना है ।

    जवाब देंहटाएं
  5. आदरणीय सुशील बाकलीवाल जी
    नमस्कार !
    .............शिकायतें ज़ायज़ हैं ।
    होली हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  6. रचनात्मकता किसी आग्रह की मोहताज नहीं होती .... आपने जो चिंता जताई है काफी हद तक बाजिव है ...आप यूँ ही निरंतर ब्लॉग जगत को अपने बेबाक विचारों से अवगत करवाते रहें ..यही कामना है ..आपका आभार

    जवाब देंहटाएं
  7. सुशिल जी मुझे तो ई -मेल देंना ही नही आता --सिखुगी ?

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी शिकायत जायज़ है, पता नहीं कोण लोग दूसरों के वाल पर अपना सन्देश ठोक आते हैं... हालाँकि आप सेटिंग में जाकर ईमेल का ऑप्शन बंद कर सकते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  9. श्री शाह नवाजजी
    ये विकल्प मेरे भी दिमाग में है लेकिन तब हम ये भी नहीं जान पावेंगे कि हमारे कौनसे मित्र का जन्मदिन कब आकर निकल गया ।

    जवाब देंहटाएं
  10. शिकायत का यह तरीका पसंद आया २०० फोलोएर की बधाई....

    जवाब देंहटाएं
  11. आपका शुक्रिया और शिकायत करने का अंदाज बहुत ही शानदार और अपने आप में निराला लगा मुझे बहुत अच्छा लगा. २०० फोलोवर्स की बधाई....

    जवाब देंहटाएं
  12. धन्यवाद के लिये धन्यवाद । हालांकि निश्चित ही आपकी तीनों शिकायत
    में मेरी भागीदारी कहीं नहीं होगी । ..फ़िर भी मुझे लगता है कि आप स्वयं कहीं न कहीं
    गलती पर है ।
    1 जिनमें उपर 150-200 ई-मेल ID और नीचे भी 100-150 ई-मेल ID भरे होते हैं..
    मेरे ख्याल में इन मेल आई डी से आपका कोई लेना देना नहीं होता । ये सेंडर द्वारा उतने
    लोगों को एक साथ मेल किया गया है । आपको सिर्फ़ एक डिलीट मारना है । मेरे पास एक
    दिन में अवांछित 150 मेल तक आते हैं ।
    2- आपकी ये बात ठीक से मेरी समझ में नहीं आई । उदाहरण के लिये ये मेल मुझे भेजा
    गया । From: VN Shrivastav
    Add to Contacts
    To: RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA
    अब ये संबन्धित कंपनी द्वारा क्लियर होने पर
    गलत हो ही नहीं सकता । गलत होता । तो मेल नहीं आती ।
    3 फ़ेस बुक पर जो भी मित्र आपसे जुङे हैं । उनके खुद के वाल पर किये अपडेट आपके वाल
    पर स्वतः आते हैं ।अतः वो मैटर आपकी वाल पर पोस्ट नहीं करते । हाँ ई मेल जो फ़ेसबुक
    आपको भेजती है । उसको आप डिसेबल कर दें । और इस तरह के अपडेट सीधा फ़ेसबुक पर ही
    देखें ।

    जवाब देंहटाएं
  13. मैंने कमेंट में मेल एड्रेस भी पोस्ट किया था । पर वह न जानेक्यों प्रकाशित नहीं हुआ ।

    जवाब देंहटाएं
  14. आदरणीय सुशील बाकलीवाल जी
    बहुत बहुत शुक्रिया और आपसे सौ प्रतिशत सहमत हु जी

    जवाब देंहटाएं
  15. आदरणीय सुशील जी,

    मित्रता के लिये अधिकांश मेल कम्पनीयों द्वारा प्रेषित होते है।

    और सक्रियता का कुछ मोल तो चुकाना ही पडता है।

    जवाब देंहटाएं
  16. आपको पुनः बहुत बहुत बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  17. मान्यवर,
    ब्लॉग लेखन में मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद |
    ----अमरनाथ 'मधुर'
    मो. न. 9457266975

    जवाब देंहटाएं
  18. फॉलोअरों की संख्या बहुत-सी चीजों का निचोड़ होती है। मेरे लिए अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि आप महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं।

    जवाब देंहटाएं
  19. प्रणाम गुरूजी , सबसे पहले तो डबल सेंचुरी की बहुत बहुत बधाई | जहाँ तक रही बात आपकी शिकायतों की तो मैं काफी हद तक राजीव सर से सहमत हूँ | बाकि आप मुझसे बहुत senior hain meri इतनी samarth नहीं कि मैं kuch bhi kah sakoon | barhaal mujhe तो hamesha आपकी post ka intazaar rahata hai , par sach kahoon तो kisi tarah ka comment bhejane कि himmat नहीं juta pati , kyuki ek shishya hone ke nate मैं apne comments से apko ankane कि gustakhi नहीं kar sakati | par is post par kuch likhane से khud ko rok नहीं payi |
    agar कोई galati ho gayi ho mafi chahati हूँ |
    प्रणाम |||||||||||||||

    जवाब देंहटाएं
  20. आपकी शिकायतें सही हैं ..विशेष रूप से FB पर पिक्चर लगा कर टैग करने से बहुत परेशानी होती है ...पर क्या कह सकते हैं ? डिलीट करते रहते हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  21. आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा अति उत्तम असा लगता है की आपके हर शब्द में कुछ है | जो मन के भीतर तक चला जाता है |
    कभी आप को फुर्सत मिले तो मेरे दरवाजे पे आये और अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाए |
    http://vangaydinesh.blogspot.com/
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  22. आपकी सहृदयता का कायल हूँ.शिकायतें बहुत सही हैं आपकी.

    जवाब देंहटाएं

आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...