24.1.20

सर्वश्रेष्ठ प्रबंधक...?


      पिछले दिनों बहुचर्चित निर्भया केस में कोर्ट रुम के एक विशेष दृश्य के बारे में समाचारपत्रों में पढा कि मुजरिम को फांसी दी जाए या मुजरिम की फांसी को टाल दिया जाए इस विषय पर दो माताएं न्यायाधीश महोदय के समक्ष अपनी-अपनी भरी आँखों से समुचित न्याय की कामना कर रही थीं, जिनमें एक इस वीभत्स त्रासदी की शिकार हुई निर्भया की मां थी जो अपनी बेटी की युवावस्था में दुर्गति कर उसे अकाल मृत्यु की गोद में पहुंचाने वाले दरिंदो के लिये अविलंब फांसी की सजा की मांग कर रही थी जबकि दूसरी ओर उन्हीं प्रमाणित दरिंदों में से एक की मां थी जो अपने बेटे के जीवन के लिये याचना कर रही थी ।

      इस प्रकरण में हम जितना भी पलटकर पीछे तक देखें, निर्भया के हक की लडाई में जहाँ उसके माता-पिता की सार्वजनिक सक्रियता को गौर से देखा जावे तो उसके पिता से कहीं अधिक मुखर व जुझारु तौर पर उसकी मां ही लगातार अधिक सक्रिय दिखती आ रही हैं ।

Click & Read Also-

      बहुत पहले किसी कॉर्पोरेट हाउस ने मैनेजमेंट गुरुओं के एक सम्मेलन में प्रश्न पूछा गया था कि आप सफलतम प्रबंधक किसे मानते हैं ? तब विशेषज्ञों ने रोनाल्ड रेगन, नेल्सन मंडेला, चर्चिल, गांधी, टाटा, हेनरी फोर्ड, चाणक्य, बिस्मार्क व इन जैसे कई और नाम अपने उत्तर में बताये थे । किन्तु निर्णायकों के निर्धारित उत्तर था कि सर्वाधिक सफलतम प्रबंधक एक आम गृहिणी" होती है ।

      एक गृहिणी जो परिवार में किसी का भी ट्रांसफर, सस्पेंड या टर्मिनेशन नहीं कर सकती, ना ही किसी को वो अपॉइंट कर सकती है । किंतु फिर भी लगभग सभी से काम करवाने की क्षमता रखती है । किससे, क्या और कैसे करवाना है, कब प्रेम से काम करवाना है और कब झूठी-सच्ची नाराजगी दिखाकर काम निकलवाना है यह वो बखूबी जानती है और इसीलिये सफलतम प्रबंधक के रुप में उससे उपर किसी का स्थान नहीं माना जा सकता ।


      बड़े-बड़े उद्योगों में भी कभी इसलिए काम रुक जाता है कि आवश्यक संसाधन समय पर उपलब्ध नहीं हो पाए । किंतु किसी गरीब से गरीब घर भी नमक जैसी छोटी सी चीज तक भी कभी कम नहीं पड़ती । बहुत याद करने पर भी आप शायद ही कभी ऐसा कोई दिन याद कर पाएं जिस दिन आपको खाने में इसलिए कुछ न मिल पाया हो कि आज घर में बनाने को कुछ नही था या गैस खत्म हो गई थी या प्रेशर कूकर का रिंग खराब हो गया था । कमोबेश हर समस्या का विकल्प सामान्य गृहिणी बिल्कुल खामोशी से अपने घर में रखती है ।

      प्रबंधन एवं संचालन का इससे बेहतर उदाहरण क्या हो सकता है कि अचानक कोई बड़ा खर्च आ जाने पर या किसी की बीमारी पर जब सब सदस्य सोच में पड जाते हैं, तब भी वो अपने पुराने संदूक या अलमारी में छुपा कर रखे बचत के पैसे निकाल लाती है । आवश्यकता होने पर कभी कुछ गहने गिरवी रख देती है । कुछ परिचित घरों से अपनी साख के आधार पर उधार ले आती है, पर उस समय आवश्यक रकम का जुगाड कर ही लाती है । संकटकालीन अर्थ-प्रबंधन का इससे बेहतर और क्या उदाहरण मिल सकता है ?

Click & Read Also-

      निचले इलाके के घरों में बेमौसम बारिश में कभी अकस्मात पानी भर जाए, बिना खबर अचानक चार-पांच मेहमान आ जाएं । सब के लिए उसके पास आपदा प्रबंधन की योजना होती है । जबकि इन सभी इंतजाम के लिए उसके पास सिर्फ आंसू और मुस्कान ही माध्यम होते हैं और इसके साथ होता है उसकी जिजीविषा, समर्पण और प्रेम की भावना ।

      सफल गृहिणी का संबल होता है सब्र । जिसके बारे में कहते हैं कि सब्र का घूंट दूसरों को पिलाना ही आसान है, लेकिन यदि ख़ुद को पीना पडे तो एक-एक क़तरा ज़हर समान लगता है । कुशल प्रबंधन के इन नैसर्गिक गुणों से परिपूर्ण उसी गृहिणी को उसके समर्पण के अनुपात में अधिकतम परिवारों में सम्मान प्रायः नहीं मिल पाता है यह देखकर दुःख ही होता है ।


      इन विदेशी महिला का संस्कृत भाषा में मंत्रों का सटीक उच्चारण 
व मंत्रों के प्रति इनकी भावनाएं देखिये...



21.1.20

अविद्या – भेडचाल…!


      कुछ दिनों पूर्व हमारे शहर में 5/- रु. के अच्छे-भले नोट लोगों ने लेना बंद कर दिया । कारण क्या हुआ ?  जवाब किसी के पास भी नहीं, बस हम नहीं लेंगे । अब आप बैठे रहो अपने उन पांच रुपये के करंसी नोटों को लेकर, नहीं चलेंगे याने नहीं चलेंगे । पहले भी 10/- रु. के सिक्कों के साथ ऐसी हवा चली थी । जब कि एक परिचित बताने लगे कि कुछ दिनों पहले मैं जब अहमदाबाद गया तो वहाँ 50 पैसे का सिक्का भी अभी तक चल रहा है जिसे हमारे शहर में बंद हुए एक अर्सा बीत गया ।

Click & Read Also-

      ऐसे ही  इस समय देश के निति-नियंताओं द्वारा बनाया जा रहा बदलाव का दौर चल रहा है और इसीके साथ तर्कसंगत या अतर्कसंगत विरोध के बवंडर भी लगातार बने हुए हैं, बिना ये जाने कि वास्तव में यह सही है भी या नहीं । बस किसी न किसी नेता के अनुसरण में उस वर्ग की पूरी ताकत प्राण-प्रण से विरोध में लगी दिखाई दे रही है ।

       इसी भेडचाल को इतिहास में अविद्या के रुप में परिभाषित किया गया है । इस अविद्या का एक रोचक उदाहरण अकबर – बीरबल के इस दिलचस्प कथानक में देखें-

      एक बार अकबर ने बीरबल से पूछा की बीरबल यह अविद्या क्या है ? तब बीरबल ने कहा कि यदि आप मुझे चार-पांच दिन की छुट्टी दें तो मै आपको बता सकता हूं, कि ये अविद्या क्या है ! अकबर ने तब चाही गई छुट्टी बीरबल को दे दी ! दूसरे दिन बीरबल एक मोची के पास गया और बोला कि भाई एक जोड जूती बना दो, मोची ने जब नाप के लिये पूछा तो बीरबल बोला- आप तो बस डेढ़ फुट लंबी और एक बित्ता चौड़ी बना दो, और इसमें हीरे-जवाहरात जडकर, सोने व चांदी के तारों से इसकी सिलाई कर दो । खर्च की कोई चिंता नहीं है तुम जितना मांगोगे उतना मिल जाएगा । मोची ने तीसरे दिन जूतियां बनाकर बीरबल को देने का बोला और समय पर चाहत के मुताबिक जूती की आकर्षक जोडी बनाकर बीरबल की दे दी ।

      बीरबल ने उसमें से एक जूती अपने पास रखकर दूसरी रात में मस्जिद में फेंक दी । सुबह जब मुल्ला-मौलवी अजान व नमाज के लिए मस्जिद पहुंचे तो मौलवी को वो जूती वहां दिखी । मौलवी ने सोचा यह जूती किसी इंसान की तो नहीं हो सकती, जरूर अल्लाह नमाज पढ़ने आया होगा और ये यहीं छूट गई होगी, यह सोच उसने उस जूती को अपने सर पर रखकर मस्तक पर लगाया और उस जूती को प्रेम से चूम-चाट लिया क्योंकि वह अल्लाह की जूती थी ।


      फिर उसने वहां मौजूद सभी लोगों को उस जूती को दिखाया तो वे सब भी बोलने लगे कि, हां ! यह तो अल्लाह की ही जूती रह गई है और उन्होंने भी उसको सर पर रखा और बारी-बारी से सभी ने उसे चूमा व चाटा । अकबर तक यह बात पहुंची । अकबर ने भी उस जूती को देखा तो वह भी यही बोला कि वाकई यह तो अल्लाह की ही जूती है । फिर अकबर ने भी उसे अपने मस्तक पर रखा व उसे चूमते-चाटते बोला इसे हिफाजत से मस्जिद में ही रखवा दो !

Click & Read Also-

      इधर बीरबल की छुट्टी समाप्त हुई । वह आया, बादशाह को सलाम किया और उतरा हुआ मुंह लेकर एक ओर खड़ा हो गया । अकबर ने बीरबल से पूछा कि क्या हो गया, ऐसे मुंह क्यों लटका रखा है ? तब बीरबल ने कहा - महाराज हमारे यहां चोरी हो गई । अकबर ने पूछा कि क्या चोरी हो गया ? तब बीरबल ने बताया कि हमारे परदादा की पुश्तैनी जूती थी, कोई चोर उसमें से एक जूती उठाकर ले गया, अब एक ही बची है, तो अकबर ने पूछा कि क्या वो एक जूती तुम्हारे पास है ? बीरबल ने कहा जी वो तो मेरे पास ही है कहते हुए उसने वह दूसरी जूती अकबर को दिखाई । अब अकबर का माथा ठनका और उसने मस्जिद से दूसरी जूती मंगाई व उसे देखते हुए बोला- या अल्लाह मैंने तो सोचा कि यह जूती अल्लाह की है और मैंने तो इसे चाट-चाट कर चिकना बना डाला ।

      तब बीरबल ने कहा- महाराज यही है वह अविद्या, जिसमें किसी को भले ही कुछ भी पता न हो फिर भी सब भेड़चाल में चलते चले जा रहे हैं ।

       शरीर-स्वास्थ्य से सम्बन्धित नवीनतम जानकारियों के लिये नीचे की लिंक क्लिक करें व देखें हमारा नया ब्लॉग 


14.1.20

जीवन का टॉनिक है – दोस्ती...

             इस दुनिया में हमारा आना अपने माता-पिता के कारण होता है और उनसे जुडे अन्य दूसरे रिश्ते स्वतः हमारे साथ भी जुड जाते हैं, वे हमें अच्छे लगें या नहीं ये अलग बात है किंतु हमें उन्हें अनिवार्य रुप से जीवन भर निभाना ही पडता है ।

      लेकिन इन सामाजिक व पारिवारिक रिश्तों के साथ-साथ एक ऐच्छिक रिश्ता हम सभी के जीवन में अनिवार्यतः चलता है और वो होता है दोस्ती का रिश्ता । एक ऐसा सम्बन्ध जिसे हम अपनी स्वेच्छा से बनाते हैं, जिसमें निभाने की कोई बाध्यता भी नहीं होती किंतु प्रायः हम सभी अपनी-अपनी रुचियों व समान विचारों के कारण उनसे ऐसे जुड जाते हैं जितने कई बार हम अपने खून के रिश्तों से भी नहीं जुड पाते हैं ।
       दोस्ती का यह संबंध जैसे-जैसे पुराना होता जाता है उसकी विश्वसनीयता उतनी ही बढती जाती है । उन्हें निरन्तर साथ देखते रहने वाले लोग जय-वीरु जैसे लोकप्रिय जोडीदार नामों से पहचानने लगते हैं । किंतु दोस्ती के अनेक रिश्ते समय के साथ कभी जीविकोपार्जन तो कभी वैवाहिक अनिवार्यता या कभी और किसी बाध्यता के कारण सामान्य से लगाकर हजारों किलोमीटर की दूरी तक पहुँच जाते हैं और तब उनसे हमारी नजदीकियां घटते-घटते स्थायी दूरियों तक में भी बदल जाती हैं ।

       अब दोस्ती के ऐसे रिश्तों के साथ हमारा लम्बे समय में नजरिया क्या रहना चाहिये – इससे सम्बन्धित एक कथानक जो मेरे सामने आया उसे आपके समक्ष शेअर कर रहा हूँ-
       
       अपने विवाह के बाद मैं अपने पिता से अलग रह रहा था । मेरे विवाह के बाद लेकिन बहुत साल पहले मैं अपने घर पिता के आगमन पर उनके साथ बैठकर अपने विवाह के बाद की व्यस्त जिंदगी की जिम्मेदारियों और उम्मीदों के बारे में अपने विचार उन्हें बता रहा था,  तब वह अत्यंत गंभीर और शालीन खामोशी से मेरी बातें सुन रहे थे ।       

       अचानक उन्होंने मुझसे कहा-  "जिंदगी में अपने दोस्तों को कभी मत भूलना ! तुम्हारे दोस्त उम्र के ढलान पर पर तुम्हारे लिए और भी महत्वपूर्ण और ज़रूरी हो जायेंगे ।" बेशक अपने बच्चों, बच्चों के बच्चों और उन सभी के जान से भी ज़्यादा प्यारे परिवारों को रत्ती भर भी कम प्यार मत देना, मगर  अपने पुराने, निस्वार्थ और सदा साथ निभानेवाले दोस्तों को हर्गिज़ मत भुलना ।  वक्त निकाल कर उनके साथ समय बिताना, मौज मस्ती करना । उनके घर खाना खाने जाना और जब भी मौक़ा मिले उन्हें अपने घर बुलाना ।  संभव ना हो सके तो फोन पर ही जब-तब उनके हाल-चाल पूछ लिया करना ।"       

       मैं नए-नए विवाहित जीवन की खुमारी में था और पिताजी मुझे यारी-दोस्ती के बारे में समझा रहे थे । मैंने सोचा... मैं अब बड़ा हो चुका हूँ, मेरी पत्नी और मेरा होने वाला परिवार मेरे लिए अब जीवन का मकसद और सब कुछ है । दोस्तों के लिये अब समय भी कहाँ मिलेगा ?"

       लेकिन मैंने आगे चल कर एक सीमा तक उनकी बात मानना भी जारी रखा । मैं अपने गिने-चुने दोस्तों के संपर्क में भी बना रहा । संयोगवश समय बीतने के साथ उनकी संख्या भी बढ़ती ही रही । कुछ समय बाद मुझे अहसास होने लगा कि उस दिन मेरे पिता अपनी उम्र के तजुर्बों से मुझे दोस्ती की अहमियत समझा रहे थे ।

       उन्हें मालूम था कि उम्र के आख़िरी दौर तक ज़िन्दगी कब और कैसे करवट बदलती है,  और अच्छे-बुरे समय के उस दौर में ज़िन्दगी के बड़े से बड़े तूफानों में भी दोस्त कभी मल्लाह बनकर तो कभी नाव बन कर और कभी पतवार बन कर सदा साथ निभाते हैं । कभी-कभी तो वह आपके लिये आपके साथ ज़िन्दगी की जंग में भी कूद जाते हैं । सच्चे दोस्तों का एक ही काम होता है- और वह है दोस्ती । उनका मजहब और मकसद भी एक ही होता है- दोस्ती ।
              
      ज़िन्दगी के पचास साल बीतने के बाद मुझे समझ आने लगा कि घड़ी की सुईयां पूरा चक्कर लगा कर वहीं पहुँच गयीं थी, जहाँ से जिंदगी शुरू हुई थी । विवाह होने से पहले मेरे पास सिर्फ दोस्त थे । विवाह के बाद बच्चे हुए, वे बड़े हुए और उनकी जिम्मेदारियां निभाते-निभाते मैं बूढा हो गया

       फिर बच्चों के विवाह हो गए,  उनके अपने कारोबार चालू हो गए ।  अलग परिवार और घर बन गए । बेटियाँ अपनी जिम्मेदारियों में व्यस्त हो गईं । बेटे-बेटियों के बच्चे कुछ समय तक दादा-दादी और नाना-नानी के खिलौने रहे, बाद में उनकी रुचियाँ, मित्र मंडलियाँ और जिंदगी अलग पटरी पर चलने लगीं । अपने घर में मैं और मेरी पत्नी ही रह गए ।

       समय गुजरता रहा, नौकरी का भी अंत आ गया । साथी-सहयोगी और प्रतिद्वंद्वी शीघ्र ही मुझे भूल गए । जिस मालिक से मैं पहले कभी छुट्टी मांगता, तो जो आदमी  मेरी मौजूदगी को कम्पनी के जीवन-मरण का सवाल बताता था, वह मुझे ऐसे भूल गया जैसे मैं कभी वहाँ काम ही नहीं करता था ।
     
       अलबत्ता एक चीज़ कभी नहीं बदली वो थी मेरे मुठ्ठी भर पुराने दोस्त । मेरी दोस्तियां ना तो कभी बूढ़ी हुईं, और ना रिटायर । आज भी जब मैं अपने दोस्तों के साथ होता हूँ, तो मुझे लगता है कि अभी तो मैं जवान हूँ और मुझे अभी बहुत से साल ज़िंदा रहना चाहिए ।

        वास्तव में सच्चे दोस्त हमारी जिन्दगी की ज़रुरत हैं, कम ही सही लेकिन कुछ दोस्तों का साथ हमेशा रहना ही चाहियेसाले कितने भी अटपटे, गैरजिम्मेदार, बेहूदे और कमअक्ल ही क्यों ना हों, लेकिन ज़िन्दगी के खराब वक्त में उनसे बड़ा योद्धा और चिकित्सक मिलना नामुमकिन है ।

Click & Read Also-
सबसे अनमोल क्या...?
एक सच यह भी...!
राज सौंदर्य, सेहत व लम्बी उम्र के.      
     एक अच्छा दोस्त चाहे दूर हो या पास हो लेकिन वो  सदा हमारे दिल में रहता है । इसलिये सच्चे दोस्तों को उम्र भर साथ रखें, समय आने पर उनसे सम्बन्धित जिम्मेदारियां भी निभाएं, और हर कीमत पर अपनी दोस्ती को सलामत रखें । क्योंकि ये ही वो बचत है जो उम्र भर आपके काम आयेगी

अपने व सभी के प्यारे दोस्तों को समर्पित किसी शायर का ये अन्दाज...
 दोस्त साथ है तो रोने में भी शान है
दोस्त ना हो तो महफिल भी श्मसान है,
सारा खेल इन दोस्तों का ही है वर्ना,
जनाजे और बारातदोनों ही एक समान हैं ।
  
और अब देखिए व सुनिये सिर्फ 5 मिनिट की इस वीडिओ में इन विद्व  बुजुर्ग के वे अनुभव जो ये निरोगी जीवन के लिये भी अपनों को इस रिश्ते के महत्व से इस तरह परिचित करा रहे हैं-



11.1.20

तैयारी सुखमय वृद्धावस्था के लिए...

       पनी 40 वर्ष की उम्र तक आगामी जीवन के लिये सभी व्यक्ति इस सन्देश के मुताबिक तैयारी करें, क्योंकि यह उनके आने वाले जीवन के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है ।

        1.  जहाँ तक संभव हो अपने स्वयं के स्थायी निवास में ही रहें जिससे कि स्वतंत्र जीवन जीने का आनंद बगैर किसी बाधा के ले सकें ।  (एक कहावत है - अपना घर हँग-हँग भर, दूसरे का घर थूकने का डर...)

Click & Read Also-

          2.  अपना बैंक बेलेंस और भौतिक संपत्ति अपने पास रखें । परिजनों के अति प्रेम में पड़कर किसी के नाम करने की ना सोचें ।

          3.  अपने बच्चों के इस वादे पर निर्भर ना रहें कि वो वृद्धावस्था में आपकी सेवा करेंगे, क्योंकि समय बदलने के साथ उनकी प्राथमिकताएँ भी बदल जाती हैँं और कई बार चाहते हुए भी वे कुछ नहीं कर पाते ।

          4.  उन लोगों को अपने मित्र समूह में शामिल रखें जो आपके जीवन को प्रसन्न देखना चाहते हैं, यानी सच्चे हितैषी हों । 

          5.  किसी के साथ अपनी तुलना ना करें और ना ही किसी से कोई उम्मीद रखें ।

         6.  अपनी संतानों के जीवन में दखल ना दें,  उन्हें अपने तरीके से उनका जीवन जीने दें और आप अपने तरीके से अपना जीवन जिएँ ।

          7.  अपनी वृद्धावस्था को आधार बनाकर किसी से सेवा करवाने, सम्मान पाने का प्रयास  ना करें ।

           8.  लोगों की बातें सुनें लेकिन अपने स्वतंत्र विचारों के आधार पर निर्णय लें ।

           9.  प्रार्थना करें लेकिन भीख ना मांगे, यहाँ तक कि भगवान से भी नहीं । अगर भगवान से कुछ मांगे तो सिर्फ माफ़ी और हिम्मत ।

          10.  अपने स्वास्थ्य का स्वयं ध्यान रखें, चिकित्सीय परीक्षण के अलावा अपने आर्थिक सामर्थ्य अनुसार अच्छा पौष्टिक भोजन खाएं और यथा सम्भव अपना काम अपने हाथों से करें । छोटे कष्टों पर ध्यान ना दें, उम्र के साथ छोटी मोटी शारीरिक परेशानीयां चलती रहती हैं ।

          11.  अपने जीवन को उल्लास से जीने का प्रयत्न करें खुद प्रसन्न रहने की चेष्टा करें और दूसरों को प्रसन्न रखें ।

          12.  प्रति वर्ष  अपने जीवन  साथी केे साथ भ्रमण/ छोटी यात्रा पर एक या अधिक बार अवश्य जाएंइससे आपका जीने का नजरिया बदलेगा ।

          14.   जीवन में स्थायी कुछ भी नहीं है चिंताएं भी नहीं इस बात का विश्वास करें ।

        15.  अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को रिटायरमेंट तक  पूरा कर लें, याद रखें जब तक आप अपने लिए जीना शुरू नहीं करते हैं तब तक आप जीवित नहीं हैं ।

 आपके खुशनुमा जीवन की शुभकामनाओं के साथ...

प्रेरणा कहाँ-कहाँ से...


       किसी समय एक राजा था जिसे राज भोगते काफी समय हो गया था बाल भी सफ़ेद होने लगे थे । एक दिन उसने अपने दरबार में उत्सव रखा । उत्सव मे मुजरा करने वाली के साथ दूर देश के राजाओं को भी अपने गुरु के साथ बुलाया । कुछ मुद्राएँ राजा ने यह सोचकर अपने गुरु को दी कि जो बात मुजरा करने वाली की अच्छी लगेगी वहाँ गुरु स्वयं ये मुद्राएँ देंगे ।  

           सारी रात मुजरा चलता रहा । सुबह होने वाली थीं, मुज़रा करने वाली ने देखा मेरा तबले वाला ऊँघ रहा है उसको जगाने के लियें मुज़रा करने वाली ने एक दोहा पढ़ा-

Click & Read Also-

 "बहु बीतीथोड़ी रहीपल-पल गयी बिहाई ।
एक पलक के कारनेना कलंक लग जाए।"

           अब इस दोहे का अलग-अलग व्यक्तियों ने अपने-अपने अनुरूप अर्थ निकाला ।

           तबले वाला सतर्क होकर  बजाने लगा ।

           जब ये बात गुरु ने सुनी तो गुरु ने अपने पास की सारी मोहरें उस मुज़रा करने वाली को दे दी ।

           वही दोहा उसने फिर पढ़ा तो राजा की लड़की ने अपना नवलखा हार उसे दे दिया ।

           जब वही दोहा नर्तकी ने फिर दोहराया तो राजा के लड़के ने अपना मुकट उतारकर दे दिया । 

           जब वह उस दोहे को फिर दोहराने लगी तो राजा ने कहा अब बस भी कर एक दोहे से तुने वेश्या होकर भी सबको लूट लिया है ।

           जब ये बात राजा के गुरु ने सुनी तो गुरु के नेत्रों मे जल आ गया और वो कहने लगे, "राजन् इसे तू वेश्या न कह, ये मेरी गुरू है । इसने मुझें मति दी है कि मै सारी उम्र जंगलो मे भक्ति करता रहा और आखरी समय मे मुज़रा देखने आ गया । भाई मैं तो चला ।

           राजा की लड़की ने कहा, "आप मेरी शादी नहीं कर रहे थेआज मुझे आपके महावत के साथ भागकर अपना जीवन बर्बाद कर लेना था । इसने मुझे सुमति दी है कि कभी तो तेरी शादी होगी । क्यों अपने पिता को कलंकित करती है ?"

           राजा के लड़के ने कहा, "आप मुझे राज नहीं दे रहे थे । मैंने आपके सिपाहियो से मिलकर आपका क़त्ल करवा देना था । इसने समझाया है कि आखिर राज तो तुम्हें ही मिलना है । क्यों अपने पिता के खून का इलज़ाम अपने सर लेते हो ?

           जब ये बातें राजा ने सुनी तो राजा ने सोचा क्यों न मैं अभी ही ये राजतिलक कर दूँ, गुरु भी मौजूद हैं । उसी समय राजकुमार का राजतिलक कर दिया और राजकुमारी से कहा बेटी, "मैं जल्दी ही आपकी शादी भी कर दूँगा।"

Click & Read Also-
सबसे अनमोल क्या...?
करत-करत अभ्यास के...
समझौता स्वाद से करलो...

           तब नर्तकी कहने लगी, "मेरे एक दोहे से इतने लोग सुधर गए, पर मैं तो ना सुधरी । इसलिये आज से मैं भी अपना धंधा बंद कर प्रभु मै भी तेरा नाम सुमिरन करुँगी ।

           समझ आने की बात है, दुनिया बदलते देर नहीं लगती । एक दोहे की दो लाईनों में जब इतना सामर्थ्य जुट सकता है तो बडी से बडी समस्या में भी बस थोड़ा धैर्य रखने की ज़रूरत होती है...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...