12.5.13

मात्र दिवस विशेष - माँ तुझे सलाम...!


उसको नहीं देखा हमने कभी पर इसकी जरुरत क्या होगी ? 
ऐ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की मूरत क्या होगी ?



माँ ही मन्दिर, माँ ही मूरत, माँ पूजा की थाली, 
बिन माँ के जीवन ऐसा, जैसे बगिया बिन माली ।


Read Also…

माँ ने कभी हमें खुली छत के नीचे नहीं सुलाया 
और कुछ नहीं मिला तो छाँह के लिये अपनी ममता का आँचल ही 
हम पर ओढा दिया ।

माँ ब्रह्मा है, माँ विष्णु है और महादेव भी माँ ही है । 
ब्रह्मा जन्म देते हैं, विष्णु पालन करते हैं और महादेव उद्धार करते हैं । 
जो तीनों देवों का कार्य अकेली पूरा करती है, 
धरती पर वही माँ कहलाती है 

 





दुनिया में माँ की कीमत क्या होती है 
ये उससे बेहतर कौन बता सकता है 
जिसकी माँ दुनिया में नहीं रही ।


  

माँ जब हमारे पास रहती है 
तो अपने प्रेम का खजाना हम पर लुटाती है 
और जब दूर होती है 
तो अपनी दुआओं की दौलत से हमें धन्य करती है ।






कबूतरों को दाना डालना, वृद्धाश्रम में दान देना 

और देवी के मंदिर में चुनरी चढाना अच्छी बात है 

पर जन्म देने वाली माँ को भोजन, वस्त्र और हाथखर्ची देने से 

मुँह मोड लेना दया-दान-पूजा का अपमान है ।





 पत्नी हमारी पसंद है और माँ हमारा पुण्य, 

हम ऐसा कोई कार्य न करें जिससे पसन्द के आगे 

पुण्य का दम घुटने लगे ।





Read Also…
  

है कौनसी वो चीज जो यहाँ नहीं मिलती, 

सबकुछ मिल जाता है लेकिन हां माँ नहीं मिलती ।




 
माँ-पिता की सेवा का मतलब सिर्फ उनके हाथ-पांव दबाना नहीं 

बल्कि उनकी बतों का पालन करना और 

उनकी उम्मीदों पर खरे उतरना ही उनकी सच्ची सेवा है ।
 




मात्र-दिवस के शुभदिन 
आप सभीको  हर्दिक शुभकामनाएँ...


     यदि आपको इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेखों का यह प्रयास अच्छा लगता है तो कृपया इस ब्लॉग को फॉलो कर हमारा उत्साहवर्द्धन करें । आप अपनी रुचि के अनुकुल और क्या इस ब्लॉग में देखना-पढना चाहते हैं कृपया टिप्पणी बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें । धन्यवाद सहित...



13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (12-05-2013) के चर्चा मंच 1242 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    जवाब देंहटाएं
  3. मन की हर बात जान जाती हैं माँ- बिना कहे ही !

    जवाब देंहटाएं
  4. इस संकलन के लिए तहे दिल से धन्यवाद...मातृ-दिवस की शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  5. ब्लॉग बुलेटिन के माँ दिवस विशेषांक माँ संवेदना है - वन्दे-मातरम् - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत लाजवाब ... माँ के अनेक रूप हैं ... वो प्रेम भी है शक्ति भी है करुना भी है तो अग्नी भी है ...
    नमन है माँ को ...

    जवाब देंहटाएं
  7. सुन्दर प्रस्तुति..मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर सामयिक प्रस्तुति ...
    आपको भी मातृ दिवस की शुभकामनायें ..

    जवाब देंहटाएं

आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...