28.2.11

सठियाने का दौर या.....

       समय के पैर नहीं होते बल्कि समय के पंख होते हैं और इसीलिये समय चलता नहीं है बल्कि उडता है । बेशक संकटकाल में एक-एक पल गुजरना भी भारी लगता हो किन्तु गुजर जाने के बाद तो कब दिन सप्ताह में बदलते हुए कैसे महिनों व वर्षों को पार कर जाते हैं यह हम सभी अपने जीवन के विगत में झांक कर देख सकते हैं ।

            59 वर्ष पूर्व आज ही के दिन एक निम्न-मध्यमवर्गीय परिवार की 8 सन्तानों में 4 पुत्र और 2 पुत्रियों के बाद 7वें क्रम पर जन्म लेने वाले इस बाबू की संघर्षशील जीवनयात्रा जीवन के विभिन्न पडावों से गुजरते हुए आज उम्र के 60वें वर्ष में प्रवेश कर रही है । मानव जीवन की उम्र से जुडा यह ऐसा अंक भी है जिसके लिये एक तरफ लोग कहते हैं कि अब यह सठियाने की उम्र है, तो दूसरे वर्ग का कहना होता है कि  'साठा सो पाठा' । एक ओर जहाँ अच्छी-खासी उम्र के स्त्री-पुरुष इस बाबू को अंकल ही नहीं बल्कि परिस्थिति विशेष में पापाजी के संबोधन से भी नवाज जाते हैं वहीं परिवार में सबसे छोटा रहने के कारण और एक भाई को छोडकर शेष सभी  बडे भाई-बहनों के स्वस्थ व सक्रिय जीवन में अपने सरपरस्त के रुप में  समक्ष मौजूद रहने के कारण इसका बालपन अपने समस्त खिलंदडे स्वभाव के साथ इसमें मौजूद रहा है और ईश्वर से यही प्रार्थना भी है कि ये बालपन इस काया के रहने तक तो इसमें ऐसे ही कायम भी रहे ।


            पिताजी की सीमित आमदनी और बडे परिवार में सबकी अपनी-अपनी महत्वाकांक्षाओं के चलते अपने से बडे भाई के साथ प्रिन्टिंग-प्रेस में कम उम्र से जुड जाने का जो सिलसिला एक समय महज जेबखर्च के सामान्य माध्यम के रुप में शुरु हुआ था उसने जीवन में अपनी ऐसी पेठ भी बनाली कि बाद के समय में इससे बेहतर की चाह में अन्य व्यवसाय आजमाने के बाद भी "जैसे जहाज का कोई पंछी, उड-उड जहाज पर आवे" की तर्ज पर हर बार अन्तिम शरणगाह यही व्यवसाय बना रहा और इसने भी जीवन में आर्थिक उन्नति के सामान्य क्रम को बनाये रखने की आवश्यकता से मुझे कभी मायूस भी नहीं होने दिया ।

            अब जब इस यात्रा में पीछे मुडकर देखने की सोच बनती है तो  लगता है कि चाहे पूर्व में दूसरों के लिखे को प्रकाशित करने का या बताने-समझाने का लक्ष्य रहा हो या अब ब्लागर के रुप में स्वयं अपने लिखे को पाठकों के समक्ष लाने का, किन्तु तब से अब तक शब्दों का ये सफर तो निरन्तर जारी ही रहा है । अपने इस शब्द-सफर के सहभागी रहे श्वेत-श्याम युग के ये चित्र अब कैसे दिखते हैं-

शब्दों के इस सफर के हमराही...

तब 1969.


चले कहाँ से,

------------------------------------
     
राहें... 1973


कहाँ पे आए.

---------------------------------

राहें... 1983


बहार बनके यूं मुस्कुराए

------------------------------------

और अब 2011.


 न कैसे आसान होती मंजिल, खुदा भी खुद हमपे मेहरबां था.

--------------------------------------
 
       सामान्य रुप से सभी इन्सान अपना जन्मदिन अपने परिजनों के बीच मनाते हुए अपना जीवन गुजारते चलते है किन्तु ब्लाग्स माध्यम से जुडे सभी व्यक्तियों को ये अतिरिक्त सुख भी हासिल हो जाता है कि वे इस विशेष दिन अपने जीवन के गुजरे पलों को लिखित रुप में संस्मरणात्मक रुप में सहेजते हुए इस वैचारिक माध्यम से न सिर्फ विगत में झांक लेने की दस्तावेजी कोशिश भी कर लेते हैं बल्कि उस समय विशेष में इस स्थिति में किसी न किसी रुप में अपने विचारों को इस माध्यम से ऐसे रुप में दर्ज भी कर लेते हैं जहाँ किसी डायरी के रुप में ही सही आगे भी उस पर अपनी नजर डाल सकें ।

           वैसे तो हम सभी ब्लागर्स पूरी तरह से अनार्थिक उद्देश्य से ही यहाँ ब्लागिंग कर रहे हैं याने सिर्फ स्वान्त-सुखाय के लिये ही इस माध्यम से जुडे हुए हैं लेकिन फिर भी सभीने अपनी-अपनी सुविधानुसार इसे कहीं जन-जागृति फैलाने के नाम पर, तो कहीं समाज सेवा के लिये, कहीं ज्ञान के आदान-प्रदान के लिये और कहीं लोकप्रियता की दौड में आगे बने रहने के लिये जैसे उद्देश्यों को भी कहीं न कहीं दिमाग में बैठा भी रखा है, किन्तु आज की मेरी ये पोस्ट तो
स्वान्त सुखाय ही है ।

 
   

43 टिप्पणियाँ:

संजय भास्कर ने कहा…

सुशील जी को जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये

संजय भास्कर ने कहा…

जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये

संजय भास्कर ने कहा…

सुशील बाकलीवाल जी को
जन्मदिवस की
हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।


*********************
Happy Birth Day
*********************

Patali-The-Village ने कहा…

जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये|धन्यवाद|

OM KASHYAP ने कहा…

जन्मदिवस की
हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत अच्छा लगा जीवनी का यह अन्दाज देखकर। पैसे से भी तो खुशी ही आयेगी, वैसे ही मिल रही है।

Udan Tashtari ने कहा…

जन्मदिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। आनन्द आया तस्वीरों का सफर देख...

निर्मला कपिला ने कहा…

अपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें। हम तो आपसे पहले ही सठिया गये थे । मुझे लगता है सठिआने मे जो सुख है उसका आपना ही आनन्द है। बधाई और शुभकामनायें कबूल करें।

सुज्ञ ने कहा…

सुशील जी को जन्मदिन की बधाई, चित्रों से आपका जीवनवृत जानने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। ढेरो शुभकामनाये

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

श्री संजय भास्करजी,
बहुत-बहुत धन्यवाद आपको.

Shri Patali-The-Village ji
बहुत-बहुत धन्यवाद आपको...

श्री ओम कश्यपजी,
बहुत-बहुत धन्यवाद आपको.

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

श्री प्रवीण पाण्डेयजी,
बहुत-बहुत धन्यवाद आपको.

श्री समीरलालजी समीर सा.,
धन्यवाद आपको, चित्रों के सफर में आनन्द आया मुझे भी अच्छा लगा । आभार सहित...

सुश्री निर्मला कपिलाजी,
धन्यवाद आपको, सठियाने का सुख मानलें या साठा सो पाठा का, दोनों विकल्प मौजूद हैं । आभार...

श्री सुज्ञजी,
धन्यवाद आपको, अच्छा लगा आपसे बधाई पाकर. आभार...

सतीश सक्सेना ने कहा…

अपने आप में सबसे अच्छी पोस्ट में से एक है ! वाकई बहुत अच्छा लगा बाकलीवाल साहब ! आप की यह पोस्ट प्रेरणादायक है ! मैं आभारी हूँ आपका !!

यादें ने कहा…

नमस्कार
जन्मदिन पर आप मेरी और से हार्दिक शुभकामनायें कबूल करें |
हमेशा खुश और सेहतमंद रहें |आप की पोस्ट पड़ और देख अपना अतीत याद आ गया |
धन्यवाद |

ललित शर्मा ने कहा…

जीवेम शरद: शतम
सुशील जी जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
100 वर्षों तक साठा सो पाठा बने रहें ।

Deepak Saini ने कहा…

जन्मदिन की शुभकामनाये

anshumala ने कहा…

जन्मदिवस की शुभकामनायें।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

"59 वर्ष पूर्व आज ही के दिन एक निम्न-मध्यमवर्गीय परिवार की 8 सन्तानों में 4 पुत्र और 2 पुत्रियों के बाद 7वें क्रम पर जन्म लेने वाले इस बाबू की संघर्षशील जीवनयात्रा जीवन के विभिन्न पडावों से गुजरते हुए आज उम्र के 60वें वर्ष में प्रवेश कर रही है"

जन्मदिवस की हार्दिक बधाई सठियाने की शुभकामनाये !

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

* श्री सतीशजी सक्सेना सा.,
बहुत-बहुत धन्यवाद आपको मेरी ये पोस्ट सबसे अच्छी व प्रेरणास्पद लगी । आभार सहित... माल में मिलावट तो नहीं चल रही है ना ?

* श्री यादें सा.,
आभार आपका शुभकामनाओं के लिये । कोशिश करना चाहूँगा आपके भी अतीत में झांक पाने की । धन्यवाद सहित...

* श्री ललित शर्माजी सा.,
शतायु की शुभकामना पाठा बने रहने के साथ देने के लिये आपको बहुत-बहुत धन्यवाद... बस आप जैसे मित्रों व शुभचिन्तकों की चाहत साथ में बनी रहे ।

* श्री दीपक साईनी सा.
धन्यवाद आपको.

* सुश्री अंशुमालाजी,
आभार आपका. धन्यवाद...

sandhya ने कहा…

जन्मदिन पर आपको ढेर सारी हार्दिक शुभकामनायें..
आप हमेशा खुश और सेहतमंद रहें..शब्दों का ये सफर यूँ ही निरन्तर जारी रहे..श्वेत-श्याम युग के ये चित्र बहुत ही अच्छे लगे..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें ...चित्र मय पोस्ट अच्छी लगी

rashmi ravija ने कहा…

जन्मदिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !!

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये|धन्यवाद

Sawai Singh Raj. ने कहा…

आपको जन्मदिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।

Sawai Singh Raj. ने कहा…

श्री सुशील बाकलीवाल जी जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो

Gopal ने कहा…

हम तो आपसे पहले ही सठिया गये । सठिआने मे जो सुख है उसका पना ही आनन्द है। अपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें। बधाई और शुभकामनायें कबूल करें।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सुशील जी , ६० वें जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ।
अगले साल आप भले ही बुजुर्गों की श्रेणी में आ जाएँ , लेकिन वित्त मंत्री जी ने अभी से शुभ समाचार सुना दिया है ।
पुन : बधाई ।

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

* श्री पी. सी. गोदियाल सा.,
आभार आपका दोनों तरह की बधाई व शुभकामना के लिये ।

* सुश्री संध्याजी,
बहुत-बहुत धन्यवाद, शुभकामना के लिये ।

* सुश्री संगीता स्वरुप ( गीत ) जी,
धन्यवाद आपको, बधाई के साथ ही चित्रमय पोस्ट पसंद आने के लिये ।

* सुश्री रश्मि रविजाजी,
आभार आपका इन शुभकामनाओं के लिये ।

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

* श्री संजय कुमार चौरसियाजी,
शुभकामनाओं के लिये धन्यवाद ।

* श्री सवाईसिंह राजपूतजी,
धन्यवाद आपको, शुभकामनाओं के लिये ।

* श्री गोपालजी,
धन्यवाद आपको बधाई के साथ ही अग्रिम मार्गदर्शन करने के लिये भी ।

* डा. श्री टी. एस. दराल सरजी,
धन्यवाद आपको, बधाई के साथ ही वित्तमंत्रीजी की लाभप्रद घोषणा भी जानकारी में लाने के लिये । उम्मीद की जावे की अगले वर्ष वास्तविक जरुरत के दायरे में आने पर कुछ नई सुविधा और भी जुड सकेगी । आभार सहित...

smshindi By Sonu ने कहा…

आप वो फूल हो जो गुलशन में तो नही खिलते
पर जिसपे आसमान के फ़रिश्ते भी फक्र करते
आपकी ज़िन्दगी हद से ज़्यादा कीमती है
जन्मदिन आप हमेशा मनाएं यूँ ही हँसते हँसते

जन्मदिन पर आपको ढेर सारी हार्दिक शुभकामनायें.

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

पाजामा बनियान से सूट टाई तक का सफर बहुत प्रेरक रहा...उम्र के इस मुकाम पर साठा सो पाठा के साथ ही सठियाना आपको बहुत बहुत मुबारक़!!ईश्वर ऐसे ही कई और बरस आपको मुस्कुराता रखे!!आमीन!!

Kumar ने कहा…

आपके 60वें जन्मदिन पर आपको हार्दिक शुभकामनायें.
--
आपने मेरे ब्लाग पर आकर कुछ सुझाव दिए उसके लिए धन्यवाद.
इस ब्लॉग के माध्यम से मेरा उद्धेश्य है कि कुछ प्रगतिशील लोगों को खोजा जाए जो पुरे समाज में मचे संपत्ति के भेड़िया दसान को समझते हों और इसके कारण कि ख़ोज कर रहे हों, कि अनेक लोगों को हर दिन दो वक़्त कि रोटी के लिए संघर्ष क्युएँ करना पड़ता है जबकि विज्ञान और उध्योगों कि कोई कमिं नहीं हैं, अनेकों टन अनाज गोदामों में साड़ रहा है, आदि, आदि..
इस ब्लॉग के माध्यम से मेरा मकसद लेखन करना नहीं है और न सिर्फ बातें करके मन के सुकून देना हीं . . .
और यदि आप कुछ आगे के लिए सुझाव या कोई राय देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है, हमारे साथ प्रगति के दराबाजों को खोलनें के लिए और समाज कि ज़मीन को साफ़ करके मानव सभ्यता के विकाश कि राहे बनानें के लिए ।

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

आदरणीय सुशील बाकलीवाल जी

आपको जन्म दिवस की हार्दिक बधाई !

बढ़े प्रतिष्ठा मान धन , वैभव यश सम्मान !
जन्मदिवस शुभकामना ! कर्मशील गुणवान !!


बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !
- राजेन्द्र स्वर्णकार

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

सुशील जी!
आपकी मुस्कुराहट बरकरार रहे... सालहा साल! सालगिरह मुबारक़!!

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

* smshindi by sonu
आपकी इस खुबसूरत शुभकामनाओं के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद । आभार सहित...

* सम्वेदना के स्वर श्री चेतन्य आलोकजी,
आपकी शुभकामनाओं के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद ।

* श्री कुमारजी,
धन्यवाद आपको, शुभकामनाओं के लिये...

* श्री राजेन्द्र स्वर्णकारजी,
आपकी काव्यमयी शुभकामनाओं के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद । आभार सहित...

* श्री सलिलजी वर्मा साहेब,
आपकी अमूल्य शुभकामनाओं के लिये अन्तर्मन से आभार...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Shusheel ji ... kaheen padha tha ...ateet hamesha madhur hi lgta hai ...
aaj aapki post padh kar lag raha hai ki sach hi kaha tha ...

आपको जन्म दिवस की हार्दिक बधाई

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH ने कहा…

बाऊ जी,
नमस्ते!
बहुत अच्छा लगा, आपके सफ़र का साक्षी बनके...
ढेरों शुभकामनाएँ....
मे होप, हैल्थ एंड हैप्पीनेस बी योर फ्रेंड्स फोरेवर!
आशीष
---
लम्हा!!!

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

आदरणीय सुशील जी ,

आपके साठवें जन्म दिवस पर बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनायें |

"साठा पर पाठा " की कहावत आप पर चरितार्थ हो !

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA ने कहा…

happy birthday to you सुशील जी ।
पर मैं थोङा कनफ़्यूज था । और वो इसलिये..
अक्षर जुड-जुड शब्द बनें । शब्द जुडें बनें वाक्य ।
वाक्य जुडें जब पंक्ति में, तो दिखने लगें विचार ।
अक्षरों व शब्दों के जोड-तोड का 42 वर्षीय ?? सफर.
..लेकिन आपके बिना बताये ही मैं समझ गया । ये
आपने 18 साल आयु से अपने सफ़र को काउंट किया है ।
वन्स अगेन..हैप्पी बर्थ डे टू यू..हैप्पी बर्थ डे सुशील जी..
तुम जियो हजारों साल..साल के दिन हों पचास हजार ।

Kajal Kumar ने कहा…

जब जागे तभी सवेरा... मेरी भी ढेरों मंगलकामनाएं.

Priyankaabhilaashi ने कहा…

जन्म-दिवस की हार्दिक बधाईयाँ..!!

pv.kanpur ने कहा…

meri ore se belated happy birthday. ye sach hai satha so patha, kyonki tab tak duniya bagicha-i-atfal lagane lagti hai aur khelne ka maza badh jata hai. hindi bloggers se judne ke liye kya karna hoga. aapne meri rachna kaise khoji. utsahvardhan ke liye shukriya.

amit-nivedita ने कहा…

ईश्वर करे ,आप दूधों नहाएं पूतों फ़लें (as far as blogging is concerned). बहुत बहुत शुभकामनाएं ।

Hema Nimbekar ने कहा…

belated happy birthday sir....

आपका पोस्ट बहुत बढ़िया है...
मैं उम्र में आपसे बहुत छोटी हूँ मगर फिर भी कहना चाहूंगी...

"उम्र के अंक में एक जोड़ और हुआ,
मैं एक साल पहले से सयाना और हुआ |
जनता हूँ लोग कहेंगे मैं सठिया गया हूँ,
पर मेरे लिए ये खुशियों का एक बहाना और हुआ ||"

"क्या खोया, क्या पाया इस का हिसाब लगाया नहीं,
समझता हूँ और बारीकी से अब..है गलत क्या और सही |
अच्छे समय पे थे सभी साथ मेरे पर बुरा समय था बस मेरा,
जिया मैंने मनसे बचपन और जवानी अब एक दौर और सही ||"

उम्मीद है आपको पसंद आया हो..

मुझे और पढ़े
http://nimhem.blogspot.com/

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...