3.10.19

समझौता - सीनियर सिटीजन वाली उम्र में...



          यदि आपकी उम्र +55 हो चुकी है तो ये समझना आपके ही लिये सबसे अधिक आवश्यक है कि आपकी आगे की जिन्दगी शांत और आनंददायक तरीके से कैसे बीते-

          अपने वर्किंग जीवन में आपका पद या ओहदा चाहे कुछ भी क्यों न रहा हो, रिटायरमेंट के करीब या बाद के जीवन में बहू-बेटों की अनावश्यक बातों को नजरअन्दाज करना प्रारम्भ कर दें । जितना भी आप उनकी आपस की बातों में दखल देने का प्रयास करेंगे, उतना ही उनके द्वारा आपका अनादर हो सकने की सम्भावना बढती जावेगी जिससे अंततः आपको दुःख ही होगा । इसलिये छोटे-बडे, बेटे-बहू, बेटी-जंवाई, नाती-पोतों सभी को उनके हिसाब से ही जीने दें । विशेष रुप से तब जबकी उनके किसी भी खर्चे का आप पर कोई दारोमदार न आ रहा हो । देखिये- वृद्धावस्था में खुश रहने और सुखी जीवन बिताने का रहस्य...

          जब तक वे आपसे कुछ राय-मशवरा न करना चाहें उन्हें कभी भी कुछ भी सिखाने- समझाने की कोशिश न करें । यदि कभी वे आपके सामने भी किसी काम को गलत तरीके से कर रहे हैं तब भी अपने दिल पर पत्थर रखकर देखते रहें, समय भले ही अधिक लगेगा लेकिन गलती के परिणामों को देखने व भुगतने के बाद वे स्वयं ही किसी भी काम को सही करना भी अपने-आप सीख जावेंगे ।

         पोती-पोतों के साथ भी अपनी बहुओं के स्वभाव के मुताबिक ही प्यार-स्नेह के रिश्तों को निभाएं । उन्हे भी अपनी ओर से आगे बढकर ज्ञान या शिक्षा देने का प्रयास न करें । कई बार इस कोशिश में आपको अपना मन मारने का दुःख भी महसूस करना पड सकता है, किंतु फिर भी अपने उस दुःख को अभिव्यक्त करने की कोशिश ना करें, इससे आप मेले-झमेले जैसे माहौल में भी अपने मन की आत्मिक शांति को बरकरार रखते हुए अपना शेष जीवन जी सकते हैं । देखिये- 40 के बाद सुखमय वृद्धावस्था के लिये यह भी याद रखें...

          बहुत ज्यादा न सही लेकिन एक-दो या अधिक आत्मीय मित्रों के साथ दिन में थोडा-बहुत समय अवश्य बिताएं, इससे भी आपका मन प्रसन्न व संतुष्ट रहेगा । इसके लिये आप अपने नजदीक के पार्क-बगीचे जैसे स्थान पर रोजाना सुबह के समय घूमने अथवा हल्के-फुल्के सामूहिक योग के कार्यक्रमों में शामिल हो सकते हैं इससे न सिर्फ आपका स्वास्थ्य सुदृढ रहेगा बल्कि मित्रवर्ग में बढोतरी होने के साथ ही आपके समय का भी रचनात्मक उपयोग बना रहेगा । यदि आप स्वीमिंग में रुचि रखते हों और आपके पहुंच के दायरे जितनी दूरी पर स्वीमिंग-पूल हो तो आप उसे भी अवश्य जॉईन करें आपके आनन्द और स्वास्थ्य दोनों लक्ष्य आसानी से पूर्ण हो सकेंगे ।

          बेशक इस समय में आप अपने वर्किंग जीवन जैसे खुले हाथों खर्च कर सकने की सुविधाजनक स्थिति में नहीं होंगे, अतः अब अपनी प्रवत्ति थोडे खर्चे में अपने मन-मुताबिक जीवन जीने  की बना लेना ही आपके लिये सर्वाधिक उपयोगी व किसी सीमा तक आवश्यक ही रहेगा । अतः स्वयं को इस अनुसार तेजी से ढाल लेने का प्रयास करें

          अपने जीवन-साथी की कद्र करते हुए अपना अधिक समय उसके साथ व उसकी रुचियों के अनुरुप ही गुजारने की कोशिश करें क्योंकि यही एकमात्र वो रिश्ता है जिसके साथ आपकी अब तक की जिन्दगी का भी सबसे अधिक समय  गुजरा है और मृत्यु-पर्यंत भी जिसकी मौजूदगी और गैर मौजूदगी दोनें ही आपके अपने अस्तित्व के लिये सर्वाधिक महत्वपूर्ण है । देखें-  वैवाहिक जीवन में साथी का महत्व...

          इसके अलावा पठन-पाठन में अपनी रुचि बढाना भी आपके लिये एक उत्तम विकल्प है जिससे आपको नई-नई जानकारियां और समय के अनुसार नवीनतम ज्ञान भी मिलता रह सकेगा । यदि इन तरीकों से आप अपने को तटस्थ व संतुष्ट रख सकेंगे तभी आपके लिये आगामी बुढापे का समय वाह बुढापा ! करते बीत सकेगा, अन्यथा आह बुढापा ! जिसे हमारे अनेकों बुजुर्ग ढो रहे हैं वह तो है ही ।

          इसलिये कुल-मिलाकर अपने शेष जीवन का यही एकमात्र लक्ष्य रखें कि-
जिन्दगी जो शेष है, बस वही विशेष है...

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...