19.4.11

सार्वजनिक जीवन में अनुकरणीय कार्यप्रणाली.

  
         ट्रेन के छूटने में लगभग 20-25 मिनिट की देरी थी और पच्चीसों लोग टी. सी. को घेरकर कन्फर्म सीट की जुगाड में अपने-अपने स्तर पर प्रयास करने में लगे थे । टी. सी. ने लिस्ट चेक करने के बाद कहा कि मेरे पास तीन बर्थ है और ये सिर्फ वास्तविक जरुरतमंद को ही मैं दे सकता हूँ । इतना सुनते ही भीड में कई अपने हाथ में बडे नोट लहराते दिखने लगे । 
 
        कुछ ही देर में टी. सी. ने आश्वस्त मुद्रा में बताया - पहली बर्थ इन सीनियर सीटिजन के लिये है जिन्हें 70+ की उम्र में अकेले यात्रा करना है । दूसरी बर्थ इन मेडम के लिये है जो गोद के बच्चे के साथ यात्रा कर रही हैं और तीसरी बर्थ इस नवयुवक के लिये है जो अपनी काम्पीटिशन एक्जाम देने जा रहा है ।

        इतना सुनते ही जहाँ आधी भीड छंट गई वहीं कुछ लोग उस टी. सी. से कहने लगे - हम तो आपको इतने पैसे देने को तैयार थे और आपने बिना कुछ लिये तीनों बर्थ इस प्रकार अलाट कर दी ?
 
         तब वह टी. सी. बोला - डिपार्टमेंट से जो वेतन मुझे मिल रहा है वह मेरे और मेरे परिवार की व्यवस्थित आवश्यकता पूर्ति के लिये पर्याप्त है और इस प्रकार उपर के पैसे लोगों से वसूलकर डाक्टरों के बिल भरते रहने की मुझे कोई आवश्यकता  नहीं है ।

 

52 टिप्पणियाँ:

डॉ टी एस दराल ने कहा…

काश ऐसा टी सी सब जगह मिले ।
वांछनीय , प्रेरणात्मक सन्देश ।

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut hi prenaatmak....

Roshi ने कहा…

kash sabhi karamchari apmi duty aise hi nibhyen to annahajare ko aandolan ki jaroorat nahi paregi

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर ओर सत्य बात इस टी सी ने कही, काश यह बात सब की समझ मे आ जाये तो कितना सुख हो जाये पुरे भारत मे, धन्यवाद

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आज आपकी पोस्ट पढ़ कर लगा कि अभी कुछ लोगों में ईमानदारी बाकी है ...यदि ऐसा सब सोचने लगें तो भारत का नक्शा ही बदल जायेगा ..

योगेन्द्र पाल ने कहा…

ये तो कमाल हो गया

Udan Tashtari ने कहा…

दुर्लभ दृष्य दिखा दिया आपने तो...

Vaanbhatt ने कहा…

aisi banagi dekhane ko milati rahti hai...kanpur mein ek auto wale ne sone ke aabhushan wala purse (jisake saath owner ka mobile chhoot gaya tha), na sirf lautaya balki innam lene ya apana naam batane tak se inkaar kar diya...aise jazbe ko salaam...jinka pet na bhara ho unke liye chori bhi jayaz hai...per jo moti-moti tankhahein utha rahe hain unke dwara rishwatkhori desh ka naasoor ban gayi hai...doctaron per hi kharch kareinge...

सतीश सक्सेना ने कहा…

वाह वा...वाह वा ...

खुशदीप सहगल ने कहा…

ये किस माटी के बने टीसी की बात कर रहे हैं...हक़ीक़त से परे लगता है...

अगर ऐसे टीसी की आत्मा हर किसी में प्रवेश कर जाए तो ये देश तर न जाए...

जय हिंद...

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

खुशदीप भाई जी,
हम सभी खरीददारी के समय भाव करने की विधा में इतने माहिर होते हैं कि यदि कोई वस्तु मुफ्त में मिल रही हो तो दो चाहिये की बारगेनिंग में जुटे दिखते हैं (भ्रष्टाचार भी) । लेकिन जब किसी दुकान पर रिजनेबल मूल्य पर एक भाव हाँ या ना की स्थिति देखते हैं तो खरीदी में न सिर्फ पहली प्राथमिकता उसे देते हैं बल्कि यह भी देखते हैं कि वह दुकान अन्य दुकानों से अधिक तेजी से सफल हो रही है । सारी भीड बारगेनिंग का मोह छोडकर खरीदी करने में उसी को प्राथमिकता देते दिखने लगती है । आपकी आजकी पोस्ट आखिर अन्ना के आंदोलन में इतनी भीड जुटी तो जुटी कैसे ? वाले प्रश्न पर भी मेरी समझ में यही मनोविज्ञान चलता है और मेरी पोस्ट पर किस मिट्टी के टी. सी. वाली आपकी जिज्ञासा पर भी मुझे इससे अलग कोई उदाहरण समझ में नहीं आता । जब अन्ना लोगों की नजरों में ईमानदारी का रोल माडल बन जाते हैं क्योंकि वहाँ मीडिया माध्यम उनके साथ जुड जाता है किन्तु ऐसे टी. सी. या वो रिक्शे वाले जो लाखों रु. के कीमती माल असबाब के बेग व अटेचियां ढूँढते हुए उनके वास्तविक मालिकों तक पहुँचाने अपना धंधा खोटी कर व जेब का पेट्रोल खर्च कर पहुँचाने पहुँच जाते हैं और बिना इनाम लिये लौट आते हैं ऐसे ही पागलों की तलाश (जो संख्या में चाहे जितने कम हों किन्तु हैं तो) में तो इस समय 100 में 99 बेईमान वाला हमारा पूरा देश लगा दिख रहा है या नहीं ?

सार्वजनिक जीवन में अनुकरणीय कार्यप्रणाली

ZEAL ने कहा…

नमन है ऐसे व्यक्तित्व को

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

टी सी जैसे लोग अभी भी हैं किन्तु घटते क्रम में.
काश ऐसा सभी करें...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अब ऐसी बातें स्वप्न की तरह लगती हैं ... पर अगर सत्य में भी ऐसा हो जाए तो वो व्यक्ति भगवान के समकक्ष लगता है ...

सदा ने कहा…

ऐसे व्‍यक्तित्‍व के लिये मन स्‍वत: श्रद्धान्‍वत हो जाता है ... इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

संजय भास्कर ने कहा…

इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

smshindi By Sonu ने कहा…

वाह क्या बात है

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

काश! हर जगह ऐसी ईमानदारी और चिन्ता देखने को मिले. वैसे ऐसे टीसी भी उंगलियों पर ही मिलेंगे.

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

काश हर सरकारी सेवक इसी मानसिकता का हो जाता !

संजय @ मो सम कौन ? ने कहा…

अनुकरणीय चरित्र ईमानदार लोग भी हैं, लेकिन कम हैं और लाईमलाईट में नहीं आते।
ऐसी ही मानसिकता की जरूरत है।

शोभना चौरे ने कहा…

ऐसे कितने ही लोग है जो ईमानदारी से अपने कार्य करते है किन्तु हमे तो बेईमानो की चर्चाये करने में ही ज्यादा रस मिलता है मिडिया की तरह |
इस प्रकरण में कितने ही लोग पैसे देकर सुविधा जुटाना चाह रहे थे kya उन लोगो के दिल में ने इन जरुरतमंद लोगो को देखकर अपनी सुविधा को त्यागने का विचार नहीं आया ?
इस सकारात्मक नजरिये के लिए बहुत बहुत आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत अच्छा, इसे बढ़ावा मिले।

अमित श्रीवास्तव ने कहा…

salutations to this type of character...

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

ऐसे संस्मरण जरूर लिखे जाने चाहिए। हमारे देश में बहुत से लोग ईमानदार हैं पर उन्हें फोकस न करके हम बेइमानी की चर्चा में ही उलझ कर रह जाते हैं।
..आभार आपका।

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

वाह !सुशिल जी लगता है की उस टी.सी में मेरे मिस्टर की आत्मा बस गई--तभी तो ओरो की तरह न हमारा बेंक बेलेंस है न गाडी है , न बंगला है सिर्फ एक 2-बेडरूम का एक साधारण फ्लेट है जिसमे हम खुश है --
बहुत बढिया पोस्ट है --वेसे इंदौर के ज्यादा तर टी सी ऐसे ही ईमानदार है यह मेरा खुद का अनुभव है !

MANOJ KUMAR ने कहा…

वाह.... अति सुन्दर !

प्रेरक.....!!

ajit gupta ने कहा…

आजकल कम्‍प्‍यूटराइज्‍ड लिस्‍ट होने के कारण टीसी अपनी मर्जी से कुछ नहीं कर सकते। यदि कुछ बर्थ उनके पास हैं भी तो वे बिना पैसा लिए अक्‍सर देते हैं। ये तो कुछ लोग हैं जो देश को बदनाम करते हैं।

मदन शर्मा ने कहा…

ऐसे कितने ही लोग है जो ईमानदारी से अपने कार्य करते है किन्तु हमे तो बेईमानो की चर्चाये करने में ही ज्यादा रस मिलता है मिडिया की तरह |
काश! हर जगह ऐसी ईमानदारी और चिन्ता देखने को मिले. वैसे ऐसे टीसी भी उंगलियों पर ही मिलेंगे...

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

mujhe bahut yatraen karni padti hain....aise TC kam hi milte hain.....khair.....post pad kar sheetal bayaar ka sa anubhav hua... sadhuwaad..

kase kahun?by kavita. ने कहा…

drushya durlabh hai par aise vakaye hote hai bas unhe dekhane ki nazar aur sarahne ke liye shabd chahiye...

Suman ने कहा…

abhi bhi imandar log hai duniyame....
nice post.....

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

बहुत संक्षिप्त और बेहद सटीक ढंग से आपने ईमानदारी का खाका खींचा..बहुत सुन्दर ..

शिक्षामित्र ने कहा…

यकीन नहीं हो रहा कि यह किस्सा भारतीय रेल के टीसी का है!

Coral ने कहा…

ईमानदारी अभी भी कायम है ....

निर्मला कपिला ने कहा…

ाभी भी इमानदारी ज़िन्दा है । अनुकरणीय प्रसंग। धन्यवाद।

Kunwar Kusumesh ने कहा…

अनुकरणीय और प्रेरक .
वाह,सलाम ऐसे व्यक्ति को.

Vivek Jain ने कहा…

बहुत शानदार! नमन है ऐसे व्यक्ति को....
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

blogtaknik ने कहा…

आप कोंन से देश की गाताना बता रहें हे यह भी बताये क्युकी मेरे अनुभव से भारत में ऐसे tc सायद ही मिले

संगीता पुरी ने कहा…

अनुकरणीय प्रसंग !!

mahendra verma ने कहा…

प्रेरक प्रसंग।
सभी को इसका अनुकरण करने का भरसक प्रयास करना चाहिए।

Learn By Watch ने कहा…

सुशील जी,

क्या आप कुछ इस तरह का टेम्पलेट ढूंढ रहे हैं?

Dinesh pareek ने कहा…

व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.

आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् और आशा करता हु आप मुझे इसी तरह प्रोत्सन करते रहेगे
दिनेश पारीक

कुमार राधारमण ने कहा…

अच्छा लगता है जानकर कि हमारे बीच ऐसे लोग किस्से-कहानियों से इतर भी बचे हैं।

विजय रंजन ने कहा…

yah prerak prasang hamre samaj ko wah aaina dikhata hai jahan se sab saaf saaf dikhta hai ki Imandari aaj bhi hai..Jarurat hai ki ham apni shikshan sansthano mein aise prerak prasango ko vishay sooch ka hissa bana sakte hain...dikkat ye hai ki ham moral stories padhate nahi aur padhate bhi hain to hazar saal pahle ki jise bacche asambhav mante hain ...agar unhe aaj ke prerak prasang padhaye jaayen to shayad unhe hamari naitikta par vishwas hoga aur we use sapna nahi sach samjhenge...
Agar har aadmi yah soch le ki uske bheetar us TC ki aatma bas rahi to shayad kalyan ho jaaye...
Aabhar aapka aisi sacchhi katha sunane ko...

Dinesh pareek ने कहा…

असी तो बात नहीं है सुनील जी | मैं तो अपने ब्लॉग पे १-२ दिन से कुछ नया पोस्ट करता रहता हु सायद आप मेरे ब्लॉग आये नही है मैं अपने लिंक देता हु निचे वो आप चेक कर लिए
धन्यवाद्
दिनेश पारीक
http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

Dinesh pareek ने कहा…

Sunil ji krpya app mere blog ko bhi join kare

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत प्रेरक प्रसंग...काश सभी इसका अनुसरण करें..

OM KASHYAP ने कहा…

namaskar ji
blog par kafi dino se nahi aa paya mafi chahata hoon

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

क्या इस दुनिया में ऐसा होता है ? विश्वास नहीं होता ...

रचना दीक्षित ने कहा…

अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर. ये सच है आज भी ऐसे लोग मिल जाते हैं. कम जरूर हैं पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवा जाते हैं.
अनुकरणीय पोस्ट
आभार

Sunil Kumar ने कहा…

काश ऐसा उदाहारण कुछ और मिलें सार्थक पोस्ट आभार

Baldev Sharma ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन पेशकश और एक सुन्दर सन्देश..काश के सभी सरकारी महकमो में काम करने वालों की सोच ऐसी हो पाती लेकिन आजकल लोगों ने अपने पेट का आकार बहुत ज्यादा बड़ा लिया है और उसकी पूर्ती के लिए उन्हें हाथ फ़ैलाने पद रहे हैं..

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...